अभी तक भले ही आप अपने आइडियाज को लांच करने में झिझक महसूस करते आये हों लेकिन अब आप जान चुके हैं कि ऑनलाइन बिज़नेस वो ऑप्शन है जिसमें आपको बहुत ज्यादा इन्वेस्ट करने की जरुरत नहीं है। थोड़ा पैसा और थोड़ा समय इन्वेस्ट करके भी आप इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं और अपने यूनिक आइडियाज और क्रिएटिव टैलेंट के दम पर आप इस बिजनेस को किस मुकाम पर ले जा सकते हैं, ये तो आपके अपने हाथ में है।

रेलमंत्री को अगर यह हिसाब तब भी समझ नहीं आता है, तो एक छात्र ने जो हिसाब भेजा है, वह दे देता हूं. बीकानेर से नागपुर जाने के लिए एक ही ट्रेन है, अणुव्रत एक्सप्रेस, जो हफ्ते में एक-दो दिन ही चलती है. एक तरफ से 26 घंटे का सफर है. दोनों तरफ का किराया मिलाकर टिकट पर सिर्फ 3,240 रुपये खर्च होंगे. 23 जनवरी को पहुंचने के लिए उसे 20 जनवरी को निकलना पड़ेगा, वापसी की ट्रेन 23 और 24 की नहीं है, तो नागपुर में दो दिन रुकना भी पड़ेगा. इस तरह एक परीक्षा देने में उसे सात दिन लगेंगे. 10,000 से अधिक रुपये खर्च हो जाएंगे. रेलमंत्री जी बताएं, एक छात्र को प्रयागराज से कर्नाटक के हुबली भेजने का क्या मतलब. 32 घंटे का सफर तय करना पड़ेगा. वह भी तब, जब आपकी ट्रेन समय से चली, जो चलती नहीं. राजस्थान के गंगानगर से किसी को केरल के कोच्चि में भेजने का क्या मतलब है. क्या इसी को ऑनलाइन इम्तिहान कहते हैं...?
ये चार पॉइंट्स आपके लिए बहुत आवश्यक हैं क्योंकि अगर आप इंटरनेट से पैसे कमाना चाहते हैं तो आपके पास एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन होना जरूरी है। उसके बाद आप जिस मशीन से काम करेंगे मतलब की आपके पास Smartphone या Computer (Laptop/Desktop) होना भी जरूरी है। इसके बाद आपके पास एक अच्छा धैर्य होना चाहिए। क्योंकि ऑनलाइन earning में आपको पहले दिन से earning के बारे में सोचना भी गुनाह है। इसके बाद सबसे महत्वपूर्ण बिंदु है कि आपके अंदर Real और Scam की समझ होना बहुत आवश्यक है। क्योंकि आप जिससे कमाई करने वाले हैं वो सच मे आपको पैसे देगा या फिर आप सिर्फ अपना समय ही बेकार कर रहें हैं। इसकी समझ आपको जरूर होनी चाहिए। आपको ज्यादा लालच में नही पड़ना है।
ग्वालियर के एक छात्र को असम के तेजपुर में सेंटर दिया गया है. बिहार के खगड़िया के छात्र को 1,700 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के राजामुंदरी में सेंटर दिया गया है. खगड़िया से एक भी ट्रेन वहां नहीं जाती है. जोधपुर के छात्र को 2,000 किलोमीटर दूर ओडिशा के राउरकेला भेजा गया है. 35 घंटे की यात्रा है और दूरी 2,000 किलोमीटर की. इस छात्र ने रेलमंत्री को ट्वीट किया है कि किसी ट्रेन में टिकट भी नहीं है. बंगाल के छात्र को तमिलनाडु के तिरुनेल्वेली सेंटर दिया गया है. ट्रेन में टिकट नहीं है. पश्चिम बंगाल के छात्र का सेंटर मुंबई दिया गया है. झांसी का छात्र हैदराबाद जाए और पश्चिम बंगाल का पुणे. पटना के मनीष को केरल के एरनाकुलम जाना होगा. जयपुर के छात्र को कोलकाता जाना होगा. गंगासागर के मेले के कारण कोलकाता जाने वाली ट्रेन में टिकट नहीं है. बंगाल के मुर्शिदाबाद का छात्र बेंगलुरू कैसे जाएगा. रेलमंत्री खुद अपनी टाइमलाइन पर यह सब देख सकते हैं.
माइक्रो जॉब ऐसी छोटी जॉब्स हैं जिनको कम्पलीट करने में मिनटों या सेकण्ड्स का समय लगता है। ऐसी बहुत  सी साइट्स हैं जो ऑनलाइन माइक्रो जॉब्स की सुविधा देती हैं। पेज शेयर करना, शोर्ट आर्टिकल लिखना, गूगल में कुछ सर्च करना, रेवेन्यु देना जैसे सैंकड़ों आसान कार्य इसके अंदर आते हैं।  ऐसी साइट्स पर रोजाना दो घंटे काम करके आप घर बैठ 8000 से 10000 रूपए प्रतिमाह कमा सकते हैं।
दोस्तों, आप ये तीनो काम करके घर बैठे हजारो रुपये की कमाई कर सकते है, आप जैसे हजारो लोग ऐसे काम करके अच्छी कमाई कर रहे है, आप भी कर सकते है। इन कार्यों के लिए आपको किसी भी तरह का निवेश करने की आवश्यकता नहीं है, आप बिना निवेश यह काम करके हर महीने हजारो रुपये आसानी से कमा सकते है। हालांकि नए काम की शुरुवात में काम समजने में आपको थोड़ी परेशानी हो सकती है, लेकिन आगे चलके आप खुद इनके मास्टर बन जायेंगे।
सर्च इंजिन अनुकूलन सीखे: चाहे ऑनलाइन चुनें या आपके स्थानीय कॉलेज के द्वारा प्रदत्त कोर्स करें, ऑनलाइन जगत में स्वयं को स्थवित करने के लिए सर्च इंजिन अनुकूलन (SEO) के बारे में ज्ञान होना अतिआवश्यक हैं। सर्च इंजिन अनुकूलन (SEO) के बारे में जान कर आप अपने व्यवसाय को गूगल के सर्च इंजिन पर लोगो द्वारा खोजे जाने वाले संकेतशब्दो के आधार पर संभावित ग्राहकों का ध्यान ज्यादा प्रभावी तौर पर आकर्षित कर सकते हैं।

एक ऑनलाइन स्टोर बनाएँ: ऑनलाइन बिक्री खासकर तब ज्यादा प्रभावी होता है जब वे उत्पाद भौतिक बाजारों में ज्यादा ध्यान आकर्षित नहीं कर पाते हैं, लेकिन हाँ रोजमर्रा की चीजें भी बहुत से लोग ऑनलाइन खरीदते हैं, यदि आप वेब तकनीक के बारे में ज्यादा नहीं जानते या वेवसाइट को सँभालने के मामलें में उलझना नही चाहते हैं, आप अपने स्टोर को इबे (eBay) या कैफेप्रेस (caffePress) पर भी बना सकते हैं जो मुफ्त हैं। अथवा यह काम आप किसी वेब डिज़ाइनर को किराये पर रख कर या स्वयं भी कर सकते हैं।


यह आजकल एक तथ्य है कि लगभग सभी दिए गए काम पहले से ही एक निश्चित अनुबंध के माध्यम से या फ्रीलान्स के आधार पर किया जा सकता है जो इसे सर्वश्रेष्ठ में से एक बनाता है घर पर अतिरिक्त पैसे बनाने के तरीके। वास्तव में, कई ऑनलाइन केंद्र हैं जो आपको यात्रा करने की अनुमति देगा और आपको एक नौकरी तलाशने वाले, अन्य ग्राहकों की वेबसाइटों पर ले जा सकते हैं, जो आपको एक अनुबंध के लिए हकदार होंगे।
यदि आप लिखने के शौकीन हैं और एक राइटर भी बनना चाहते हैं तो आपके लिए ऑनलाइन राइटिंग जॉब एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है क्योंकि इंटरनेट की दुनिया में बहुत सारे लोगों को रोजाना कंटेंट चाहिए होता है. जिसके लिए कंपनियां आपको हजारों रुपए तक पेय कर सकती हैं. इसके लिए आपको अपने पर्सनल नेटवर्क में बातचीत करने की आवश्यकता होगी या Google पर आकर सर्च करना होगा कि कौन सी कंपनियां ऑनलाइन राइटिंग जॉब प्रदान करती हैं फिर उसके बाद आप अपने ऑनलाइन राइटिंग के रेट फिक्स करके लिखना शुरु कर सकते हैं, यहां से आप इंटरनेट की मदद से बहुत सारे पैसे कमा सकते हैं.
रेलमंत्री को अगर यह हिसाब तब भी समझ नहीं आता है, तो एक छात्र ने जो हिसाब भेजा है, वह दे देता हूं. बीकानेर से नागपुर जाने के लिए एक ही ट्रेन है, अणुव्रत एक्सप्रेस, जो हफ्ते में एक-दो दिन ही चलती है. एक तरफ से 26 घंटे का सफर है. दोनों तरफ का किराया मिलाकर टिकट पर सिर्फ 3,240 रुपये खर्च होंगे. 23 जनवरी को पहुंचने के लिए उसे 20 जनवरी को निकलना पड़ेगा, वापसी की ट्रेन 23 और 24 की नहीं है, तो नागपुर में दो दिन रुकना भी पड़ेगा. इस तरह एक परीक्षा देने में उसे सात दिन लगेंगे. 10,000 से अधिक रुपये खर्च हो जाएंगे. रेलमंत्री जी बताएं, एक छात्र को प्रयागराज से कर्नाटक के हुबली भेजने का क्या मतलब. 32 घंटे का सफर तय करना पड़ेगा. वह भी तब, जब आपकी ट्रेन समय से चली, जो चलती नहीं. राजस्थान के गंगानगर से किसी को केरल के कोच्चि में भेजने का क्या मतलब है. क्या इसी को ऑनलाइन इम्तिहान कहते हैं...?
इसलिए मेरा तर्क यह है कि रेलमंत्री प्रचार पर कम ध्यान दें और काम पर ज्यादा. रेल बोर्ड से पूछें कि गरीब और साधारण परिवार के छात्रों को 2,000 किलोमीटर भेजने का क्या तुक है. किस तरह से यह ऑनलाइन परीक्षा है, जिसके लिए किसी को 35 घंटे, तो किसी को 40 घंटे की यात्रा करनी पड़ रही है. बेपरवाही की भी हद होती है. अनगिनत महापुरुषों की जयंती और पुण्यतिथि पर ट्वीट करने वाले रेलमंत्री को इन छात्रों की समस्या पर ट्वीट करना चाहिए और समाधान निकालना चाहिए.
डोमेन नाम बदलना: डोमेन नाम इंटरनेट जगत के मूल्यवान रियल एस्टेट हैं और कुछ लोग इन्हें बेच और खरीद के अच्छी कीमत कमा रहे हैं। रणनीति के लिए आप गूगल एडवर्ड का इस्तेमाल कर ज्यादा चलन में आ रहे संकेत शब्दों (Keywords) को खोज सकते हैं और अनुमान लगा सकते है कि कौनसे डोमेन नाम की भविष्य में मांग हो सकती हैं। हालाँकि छोटे, रोचक, या सीधे अच्छे डोमेन नाम पहले ही लिए जा चुके हैं, लेकिन फिर भी आप कोई भी आधिवर्णिक (Random acronyms) डोमेन भी ले सकते हैं, जैसे कि कोई नही जानते कि कब किसी व्यक्ति या कंपनी को अपनी वेबसाइट बनाने के लिए उसी नाम की जरूरत हो जाये। (उदहारण के लिए, CPC.com, जो ₹1,20,00000 में बिका था जब कॉन्ट्रैक्ट फार्मास्युटिकल कॉर्पोरेशन ने ऑनलाइन आने का निर्णय लिया।[१] तीन अक्षरो के लिए यह कीमत बुरी नहीं हैं।)
×