इंटरनेट की दुनिया में आप हर तरह की जानकारी हासिल कर सकते हैं. बिजनेस शुरू करने जा रहे लोगों के लिए भी इंटरनेट एक अच्छा सोर्स है. यहां से आप जिस तरह का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं उसकी जानकारी लेकर अपनी स्ट्रैटजी मजबूत बना सकते हैं. ये ही नहीं, आपको यहां बिजनेस आइडिया भी मिलेगा. हम आपको ऐसे बिजनेस की जानकारी दे रहे हैं, जो घर बैठे बिना इन्वेस्टमेंट के किए जा सकते हैं, लेकिन उसके लिए आपको इंटरनेट की मदद लेनी होगी.
ऑनलाइन सेलर बने, यदि आपके पास कोई प्रोडक्ट है जिसे आप अभी अपनी शॉप पर रखकर बेचते हैं या मार्केट में बेचने जाते हैं तो आप आज के बाद से ही यह प्रोडक्ट ऑनलाइन बेचना शुरू कर दें. क्योंकि इंटरनेट की दुनिया में आपको ग्राहक मिलने की कोई कमी नहीं रहेगी ना ही आपको किसी से कहना पड़ेगा कि आप मेरा प्रोडक्ट खरीद लो, बस आपको एक बार अपने प्रोडक्ट के बारे में बताना होगा उसका एक फोटो देना होगा और अपने हिसाब से कीमत तय करनी होगी.
पिछले साल रेलवे ने 64,317 पदों की वेकेंसी निकाली थी, जिसकी पहली परीक्षा अगस्त, 2018 में हुई. 31 मार्च तक फार्म भरे गए थे. 47 लाख से अधिक छात्रों ने फार्म भरे थे. इन सबका सेंटर अचानक 1,500-2,000 किलोमीटर दूर दे दिया गया. किसी को ट्रेन में रिज़र्वेशन नहीं मिला, तो किसी के पास टिकट के पैसे नहीं थे. किसी तरह इम्तिहान देने पहुंचे, तो रात प्लेटफार्म पर गुज़ारी. बहुत से छात्रों का इम्तिहान इसलिए छूट गया कि उनकी ट्रेन लेट हो गई. छात्र चिल्लाते रहे, रोते रहे, रेलमंत्री को ट्वीट करते रहे, मगर किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ा.
हाल ही में रेलमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल पर रोज़गार से संबंधित एक प्रचार वीडियो जारी किया, जिसकी भाषा से लगता है कि रेलवे ने एक लाख लोगों को रोज़गार दे ही दिया है. सहायक लोको पायलट और टेक्नीशियन के लिए फॉर्म भरने की अंतिम तारीख 31 मार्च, 2018 थी. इसके चार महीने बाद 9 से 13 अगस्त, 2018 के बीच पहली परीक्षा होती है. इस परीक्षा का रिज़ल्ट निकलता है 20 दिसंबर, 2018 को, यानी साढ़े तीन महीने बाद. अब दूसरे चरण की परीक्षा 21, 22, 23 जनवरी, 2019 को होगी. अगर साढ़े तीन महीने का औसत निकालें, तो रिज़ल्ट आते-आते मई, 2019 हो जाएगा. उस समय देश में लोकसभा का चुनाव हो रहा होगा. मई 2019 में रिज़ल्ट आ भी जाएगा, तो अभी मनोवैज्ञानिक और मेडिकल जांच बाकी है. उसके बाद दस्तावेज़ का सत्यापन होगा. कुल मिलाकर अगस्त, 2019 से पहले अंतिम रिज़ल्ट आने की संभावना नहीं है. इनकी ज्वाइनिंग कब होगी, यह तो रेलमंत्री ही जानें. बशर्ते, उन्हें यही पता हो कि अगली बार भी वही रेलमंत्री बनेंगे या नहीं.
पिछले साल रेलवे ने 64,317 पदों की वेकेंसी निकाली थी, जिसकी पहली परीक्षा अगस्त, 2018 में हुई. 31 मार्च तक फार्म भरे गए थे. 47 लाख से अधिक छात्रों ने फार्म भरे थे. इन सबका सेंटर अचानक 1,500-2,000 किलोमीटर दूर दे दिया गया. किसी को ट्रेन में रिज़र्वेशन नहीं मिला, तो किसी के पास टिकट के पैसे नहीं थे. किसी तरह इम्तिहान देने पहुंचे, तो रात प्लेटफार्म पर गुज़ारी. बहुत से छात्रों का इम्तिहान इसलिए छूट गया कि उनकी ट्रेन लेट हो गई. छात्र चिल्लाते रहे, रोते रहे, रेलमंत्री को ट्वीट करते रहे, मगर किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ा.
ऑडियो अनुवाद (transcribe audio)करें: वेबसाइट बेहतर हो रही हैं और सुनने में अक्षम के लिए ऑडियो की लिखी हुई प्रति उपलब्ध करवाते हैं, अनुवादकों के लिए नियमित रूप से काम आते रहते हैं। अनुवादन सामान्यतः आसान, तेज काम है और इसके लिए ज्यादा जिम्मेदारी भी नही रहती हैं, हालाँकि इसके लिए मिलने वाली रकम भी तुलनात्मक कम हैं। उपलब्ध अनुवादन कार्यो को देखने के लिए Odesk और eLance पर देखें।
×