ऑडियो अनुवाद (transcribe audio)करें: वेबसाइट बेहतर हो रही हैं और सुनने में अक्षम के लिए ऑडियो की लिखी हुई प्रति उपलब्ध करवाते हैं, अनुवादकों के लिए नियमित रूप से काम आते रहते हैं। अनुवादन सामान्यतः आसान, तेज काम है और इसके लिए ज्यादा जिम्मेदारी भी नही रहती हैं, हालाँकि इसके लिए मिलने वाली रकम भी तुलनात्मक कम हैं। उपलब्ध अनुवादन कार्यो को देखने के लिए Odesk और eLance पर देखें।
यह परामर्श वाले नौकरियों से अंशकालिक परियोजना के अवसरों को फ्रीलान्स लिखने से भिन्न हो सकता है जो विशेषज्ञता के अपने क्षेत्र की देखभाल करते हैं। इसके अलावा, आप सौदा ऑनलाइन बिक्री कर सकते हैं यदि आपके पास पुरानी सीडीएस या किताबें हैं जो आपको लगता है कि अगली पीढ़ी के छात्रों द्वारा उपयोग किया जा सकता है, तो आप अपने अतिरिक्त नकद तेजी से कमाई शुरू करने के लिए किसी भी ऑनलाइन बोली-प्रक्रिया वेब पृष्ठों पर नीलामी चला सकते हैं। दूसरी तरफ, उद्योग में बहुत सारी बड़ी लाइब्रेरी हैं जो आपको अपनी पुस्तकों को भी उन्हें बेचने की अनुमति दे सकती हैं।
ग्वालियर के एक छात्र को असम के तेजपुर में सेंटर दिया गया है. बिहार के खगड़िया के छात्र को 1,700 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के राजामुंदरी में सेंटर दिया गया है. खगड़िया से एक भी ट्रेन वहां नहीं जाती है. जोधपुर के छात्र को 2,000 किलोमीटर दूर ओडिशा के राउरकेला भेजा गया है. 35 घंटे की यात्रा है और दूरी 2,000 किलोमीटर की. इस छात्र ने रेलमंत्री को ट्वीट किया है कि किसी ट्रेन में टिकट भी नहीं है. बंगाल के छात्र को तमिलनाडु के तिरुनेल्वेली सेंटर दिया गया है. ट्रेन में टिकट नहीं है. पश्चिम बंगाल के छात्र का सेंटर मुंबई दिया गया है. झांसी का छात्र हैदराबाद जाए और पश्चिम बंगाल का पुणे. पटना के मनीष को केरल के एरनाकुलम जाना होगा. जयपुर के छात्र को कोलकाता जाना होगा. गंगासागर के मेले के कारण कोलकाता जाने वाली ट्रेन में टिकट नहीं है. बंगाल के मुर्शिदाबाद का छात्र बेंगलुरू कैसे जाएगा. रेलमंत्री खुद अपनी टाइमलाइन पर यह सब देख सकते हैं.

मई 2016 में उनकी कोशिशें रंग लाईं और स्टार्टअप को गूगल के एक प्रोग्राम के तहत छह महीने की मेंटरशिप मिली। इडिकुला के लिए यह सपना सच होने जैसा था। उन्हें लगता है कि एक ऑनलाइन वेंचर शुरू करने का फैसला सही था, जहां विज्ञापनों से कमाई की काफी संभावनाएं हैं। ऑनलाइन टेक्नॉलजी-इनेबल्ड एक्सपेरिमेंटल लर्निंग प्लेटफॉर्म टैलंटस्प्रिंट के सीईओ और एमडी शांतनु पॉल बताते हैं कि ऑनलाइन जॉब्स या बिजनस आइडियाज स्टूडेंट्स की स्टडी के एरिया, इंटरेस्ट और एक्सपर्टाइज के हिसाब से उपलब्ध हैं। पॉल के मुताबिक, 'ऑनलाइन काम भारतीय छात्रों के लिए अहम है। जॉब मार्केट में अपनी रोजगार योग्यता और आकर्षण बढ़ाने का अहम जरिया है। इससे आपको अपने पैरों पर खड़ा होने का मौका मिलता है।'
शिक्षा माफियों की पैठ और फर्जी कक्ष निरीक्षकों की तैनाती पर लगाम लगाने के लिए माध्यमिक शिक्षा की ओर से इस साल ऑनलाइन केंद्र बनाने का नया प्रयोग किया गया। वहीं सीबीएसई बोर्ड ने भी पारदर्शिता लाने के लिए हाई स्कूल के होम एग्जाम इसी साल से समाप्त कर दिए। अब हाईस्कूल में भी बोर्ड एग्जाम ही होंगे। इससे स्कूलों की ओर से किए जा रहे फर्जीवाड़े पर लगाम लगी। इसके अलावा सीआईएससीई बोर्ड ने इस बार मार्किंग का पैटर्न बदल दिया। ऐसे में 33 की जगह पासिंग मार्क्स अब 35 कर दिए हैं। सारी प्रतियोगी परीक्षाओं में आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया गया।

अपनी कार्य करने की आदतो के बारे में ईमानदार रहे। क्या आप स्वयं शुरुआत कर रहे है, क्या टेबल पर बैठ कर लगातार कार्य करने के लिए उचित स्वप्रेरित है, और बिना बॉस के होते हुए भी कार्य जो लगातार रख सकते है, क्या आपका ध्यान फोन, बच्चों, या वातावरण द्वारा आसानी से भंग हो जाता हैं? ऑनलाइन कार्य करते हुए आपकी लक्ष्यप्राप्ति के लिए अत्यधिक स्वप्रेरित होने की आवश्यकता होती हैं।
पिछले साल रेलवे ने 64,317 पदों की वेकेंसी निकाली थी, जिसकी पहली परीक्षा अगस्त, 2018 में हुई. 31 मार्च तक फार्म भरे गए थे. 47 लाख से अधिक छात्रों ने फार्म भरे थे. इन सबका सेंटर अचानक 1,500-2,000 किलोमीटर दूर दे दिया गया. किसी को ट्रेन में रिज़र्वेशन नहीं मिला, तो किसी के पास टिकट के पैसे नहीं थे. किसी तरह इम्तिहान देने पहुंचे, तो रात प्लेटफार्म पर गुज़ारी. बहुत से छात्रों का इम्तिहान इसलिए छूट गया कि उनकी ट्रेन लेट हो गई. छात्र चिल्लाते रहे, रोते रहे, रेलमंत्री को ट्वीट करते रहे, मगर किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ा.
अगस्त, 2018 में खुद रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ही ट्वीट किया था कि 74 फीसदी छात्र परीक्षा में शामिल हुए. यानी 47.56 लाख छात्रों में से 26 प्रतिशत परीक्षा देने से वंचित रह गए. इस तरह बिना इम्तिहान दिए ही 12 लाख से अधिक छात्र बाहर हो गए. जब पहले चरण की परीक्षा का रिज़ल्ट आया, तो 12 लाख छात्र ही दूसरे चरण के लिए चुने गए. अब जब संख्या छोटी हो गई, तो इनके सेंटर तो राज्य के भीतर दिए जा सकते थे. अगर नकल गिरोह से बचाने का तर्क है, तो यह बेतुका है, क्योंकि आजकल ऐसे गिरोह अखिल भारतीय स्तर पर चल रहे हैं, इसलिए सरकार को अपने सेंटर की निगरानी बेहतर करनी चाहिए, न कि छात्रों को 2,000 किलोमीटर दूर भेजकर परेशान करना चाहिए.

सर्च इंजिन अनुकूलन सीखे: चाहे ऑनलाइन चुनें या आपके स्थानीय कॉलेज के द्वारा प्रदत्त कोर्स करें, ऑनलाइन जगत में स्वयं को स्थवित करने के लिए सर्च इंजिन अनुकूलन (SEO) के बारे में ज्ञान होना अतिआवश्यक हैं। सर्च इंजिन अनुकूलन (SEO) के बारे में जान कर आप अपने व्यवसाय को गूगल के सर्च इंजिन पर लोगो द्वारा खोजे जाने वाले संकेतशब्दो के आधार पर संभावित ग्राहकों का ध्यान ज्यादा प्रभावी तौर पर आकर्षित कर सकते हैं।
तीन साल पहले ग्रैजुएशन करने के दौरान पुणे में रहने वाले गौरव जाजू ने घर पर ही बच्चों को साइंस पढ़ाना शुरू किया ताकि कुछ पैसे कमाए जा सकें। इस एक्सपीरियंस से उन्हें मदद मिली। अब फार्मेसी में मास्टर डिग्री ले रहे जाजू खाली वक्त में स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन लेक्चर चलाते हैं। वह एक साइट पर रजिस्टर्ड हैं, जिसके जरिए उन्हें स्टूडेंट्स मिलते हैं और उनके पैरंट्स पढ़ाई के बारे में उनसे संपर्क कर सकते हैं। इससे न केवल उन्हें अहम टीचिंग एक्सपीरियंस मिल रहा है, बल्कि वह हर महीने 15,000 रुपये तक की कमाई भी कर लेते हैं।


यह आजकल एक तथ्य है कि लगभग सभी दिए गए काम पहले से ही एक निश्चित अनुबंध के माध्यम से या फ्रीलान्स के आधार पर किया जा सकता है जो इसे सर्वश्रेष्ठ में से एक बनाता है घर पर अतिरिक्त पैसे बनाने के तरीके। वास्तव में, कई ऑनलाइन केंद्र हैं जो आपको यात्रा करने की अनुमति देगा और आपको एक नौकरी तलाशने वाले, अन्य ग्राहकों की वेबसाइटों पर ले जा सकते हैं, जो आपको एक अनुबंध के लिए हकदार होंगे।
यदि आपके पास भी कोई ऐसा टैलेंट है या आपके पास ऐसी कोई प्रतिभा है जिसे आप दुनिया को दिखाना चाहते हैं और आपकी प्रतिभा लोगों के काम को आसान बनाती है तो आप एक YouTube चैनल बना सकते हैं जब आप अपनी वीडियो यूट्यूब पर अपलोड करेंगे तो लोगों को वह पसंद आनी चाहिए. जब आपकी वीडियो पर बहुत सारे व्यूज आने लगेंगे तो आप वीडियो को Google Adsense से कनेक्ट करके YouTube से पैसे कमा सकते है.
काम के लिए दूसरे पेशेवरों को जोड़ें: यदि आप किसी को जानते हैं जिनकी योग्यता, कौशल और नीति बेहतर हैं, उनके बारे में प्रत्याशित काम देने वाले को बताएँ। यदि उस व्यक्ति को काम के लिए चुन लिया जाता हैं, तो आपको भी उनके कार्य के दर्जे के अनुसार 3000 से कईं हजारो रूपये आपको मिल सकते है। ज्यादा जानकारी के लिए इन वेबसाइट को देखें जैसे ReferEarns या WhoDoYouKnowForDough इत्यादि।
×