आज आसानी से पैसे कमाने का सबसे उत्तम तरीका है, अमेज़न पर उपलब्ध डील्स और उत्पादों की जानकारी दूसरों तक पहुँचाना। यहाँ हम आपको सिखाएंगे की कैसे आप अमेज़न एफिलिएट बनकर पैसा कमा सकते है। इसका फायदा ये है कि कोई भी पैसे कमा सकता है। चाहे आप छात्र हो जिसको पॉकेट मनी की जरूरत है, या गृहणी हो जिसको पैसे कमाने का ज़रिया चाहिए, अगर आप पैसा कमाना चाहते हैं, तो कमायेंगे।
काम के लिए दूसरे पेशेवरों को जोड़ें: यदि आप किसी को जानते हैं जिनकी योग्यता, कौशल और नीति बेहतर हैं, उनके बारे में प्रत्याशित काम देने वाले को बताएँ। यदि उस व्यक्ति को काम के लिए चुन लिया जाता हैं, तो आपको भी उनके कार्य के दर्जे के अनुसार 3000 से कईं हजारो रूपये आपको मिल सकते है। ज्यादा जानकारी के लिए इन वेबसाइट को देखें जैसे ReferEarns या WhoDoYouKnowForDough इत्यादि।
बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर विवि (बीबीएयू) में वीसी प्रो. आरसी सोबती का ड्रीम प्रॉजेक्ट आंबेडकर भवन का निर्माण कार्य तीन साल के बाद पूरा हुआ। साथ ही कई साल से खाली पड़े पदों पर भर्तियां भी करवाई गईं। छात्रों को वाई-फाई की सुविधा भी इसी साल मिली। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) में इस साल से छात्रों की शिकायत के निवारण के लिए कॉल सेंटर बनाने पर मुहर लगी। ऐसे में यह यूपी का पहला विवि भी बना जहां छात्रों की शिकायतों के लिए कॉल सेंटर बनाया गया। ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अरबी-फारसी विश्वविद्यालय में जहां इस साल नए वीसी आए तो वहीं पीएचडी के दाखिलों को भी हरी झंडी मिली। इसी साल यहां की कार्यपरिषद भी शुरू हुई।
इन साइटों का उपयोग लिंक को Short करने के लिए किया जाता है उसके बाद आप उस Short link या URL को जादा से जादा शेयर करना होता हैं आप इन्हें Social Sites (जैसे Facebook और Twitter)  या आप इसे अपनी खुद की ब्लॉग या साइट पर भी Use कर सकते हैं। जब भी कोई Visitor आपके short URL या link पर क्लिक करता है तो कुछ पैसे आपके URL शॉर्टनर Site के Account में add कर दियेे जाते है।

हाल ही में रेलमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल पर रोज़गार से संबंधित एक प्रचार वीडियो जारी किया, जिसकी भाषा से लगता है कि रेलवे ने एक लाख लोगों को रोज़गार दे ही दिया है. सहायक लोको पायलट और टेक्नीशियन के लिए फॉर्म भरने की अंतिम तारीख 31 मार्च, 2018 थी. इसके चार महीने बाद 9 से 13 अगस्त, 2018 के बीच पहली परीक्षा होती है. इस परीक्षा का रिज़ल्ट निकलता है 20 दिसंबर, 2018 को, यानी साढ़े तीन महीने बाद. अब दूसरे चरण की परीक्षा 21, 22, 23 जनवरी, 2019 को होगी. अगर साढ़े तीन महीने का औसत निकालें, तो रिज़ल्ट आते-आते मई, 2019 हो जाएगा. उस समय देश में लोकसभा का चुनाव हो रहा होगा. मई 2019 में रिज़ल्ट आ भी जाएगा, तो अभी मनोवैज्ञानिक और मेडिकल जांच बाकी है. उसके बाद दस्तावेज़ का सत्यापन होगा. कुल मिलाकर अगस्त, 2019 से पहले अंतिम रिज़ल्ट आने की संभावना नहीं है. इनकी ज्वाइनिंग कब होगी, यह तो रेलमंत्री ही जानें. बशर्ते, उन्हें यही पता हो कि अगली बार भी वही रेलमंत्री बनेंगे या नहीं.
अगस्त, 2018 में खुद रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ही ट्वीट किया था कि 74 फीसदी छात्र परीक्षा में शामिल हुए. यानी 47.56 लाख छात्रों में से 26 प्रतिशत परीक्षा देने से वंचित रह गए. इस तरह बिना इम्तिहान दिए ही 12 लाख से अधिक छात्र बाहर हो गए. जब पहले चरण की परीक्षा का रिज़ल्ट आया, तो 12 लाख छात्र ही दूसरे चरण के लिए चुने गए. अब जब संख्या छोटी हो गई, तो इनके सेंटर तो राज्य के भीतर दिए जा सकते थे. अगर नकल गिरोह से बचाने का तर्क है, तो यह बेतुका है, क्योंकि आजकल ऐसे गिरोह अखिल भारतीय स्तर पर चल रहे हैं, इसलिए सरकार को अपने सेंटर की निगरानी बेहतर करनी चाहिए, न कि छात्रों को 2,000 किलोमीटर दूर भेजकर परेशान करना चाहिए.
इस पद्धति से, आप सहबद्ध कमीशन कमा सकते हैं जो एक उद्यम के लिए आपकी प्रारंभिक पूंजी के रूप में उपयोग किया जा सकता है। इस तरह, आप एक ही समय में स्वयं की मदद करते हुए अन्य लोगों की मदद करते हैं। कोई भी तरीका नहीं है कि आप Clickbank के साथ ऑनलाइन पैसा बनाना चाहते हैं, प्रत्येक पद्धति निश्चित रूप से आपको दिमाग-उड़ाने वाले राजस्व को लाएगी। यह सिर्फ कुछ धैर्य, कड़ी मेहनत और रचनात्मकता लेता है
ग्वालियर के एक छात्र को असम के तेजपुर में सेंटर दिया गया है. बिहार के खगड़िया के छात्र को 1,700 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के राजामुंदरी में सेंटर दिया गया है. खगड़िया से एक भी ट्रेन वहां नहीं जाती है. जोधपुर के छात्र को 2,000 किलोमीटर दूर ओडिशा के राउरकेला भेजा गया है. 35 घंटे की यात्रा है और दूरी 2,000 किलोमीटर की. इस छात्र ने रेलमंत्री को ट्वीट किया है कि किसी ट्रेन में टिकट भी नहीं है. बंगाल के छात्र को तमिलनाडु के तिरुनेल्वेली सेंटर दिया गया है. ट्रेन में टिकट नहीं है. पश्चिम बंगाल के छात्र का सेंटर मुंबई दिया गया है. झांसी का छात्र हैदराबाद जाए और पश्चिम बंगाल का पुणे. पटना के मनीष को केरल के एरनाकुलम जाना होगा. जयपुर के छात्र को कोलकाता जाना होगा. गंगासागर के मेले के कारण कोलकाता जाने वाली ट्रेन में टिकट नहीं है. बंगाल के मुर्शिदाबाद का छात्र बेंगलुरू कैसे जाएगा. रेलमंत्री खुद अपनी टाइमलाइन पर यह सब देख सकते हैं.
अगस्त, 2018 में खुद रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ही ट्वीट किया था कि 74 फीसदी छात्र परीक्षा में शामिल हुए. यानी 47.56 लाख छात्रों में से 26 प्रतिशत परीक्षा देने से वंचित रह गए. इस तरह बिना इम्तिहान दिए ही 12 लाख से अधिक छात्र बाहर हो गए. जब पहले चरण की परीक्षा का रिज़ल्ट आया, तो 12 लाख छात्र ही दूसरे चरण के लिए चुने गए. अब जब संख्या छोटी हो गई, तो इनके सेंटर तो राज्य के भीतर दिए जा सकते थे. अगर नकल गिरोह से बचाने का तर्क है, तो यह बेतुका है, क्योंकि आजकल ऐसे गिरोह अखिल भारतीय स्तर पर चल रहे हैं, इसलिए सरकार को अपने सेंटर की निगरानी बेहतर करनी चाहिए, न कि छात्रों को 2,000 किलोमीटर दूर भेजकर परेशान करना चाहिए.
दोस्तों, आप ये तीनो काम करके घर बैठे हजारो रुपये की कमाई कर सकते है, आप जैसे हजारो लोग ऐसे काम करके अच्छी कमाई कर रहे है, आप भी कर सकते है। इन कार्यों के लिए आपको किसी भी तरह का निवेश करने की आवश्यकता नहीं है, आप बिना निवेश यह काम करके हर महीने हजारो रुपये आसानी से कमा सकते है। हालांकि नए काम की शुरुवात में काम समजने में आपको थोड़ी परेशानी हो सकती है, लेकिन आगे चलके आप खुद इनके मास्टर बन जायेंगे।
डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.
हाल ही में रेलमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल पर रोज़गार से संबंधित एक प्रचार वीडियो जारी किया, जिसकी भाषा से लगता है कि रेलवे ने एक लाख लोगों को रोज़गार दे ही दिया है. सहायक लोको पायलट और टेक्नीशियन के लिए फॉर्म भरने की अंतिम तारीख 31 मार्च, 2018 थी. इसके चार महीने बाद 9 से 13 अगस्त, 2018 के बीच पहली परीक्षा होती है. इस परीक्षा का रिज़ल्ट निकलता है 20 दिसंबर, 2018 को, यानी साढ़े तीन महीने बाद. अब दूसरे चरण की परीक्षा 21, 22, 23 जनवरी, 2019 को होगी. अगर साढ़े तीन महीने का औसत निकालें, तो रिज़ल्ट आते-आते मई, 2019 हो जाएगा. उस समय देश में लोकसभा का चुनाव हो रहा होगा. मई 2019 में रिज़ल्ट आ भी जाएगा, तो अभी मनोवैज्ञानिक और मेडिकल जांच बाकी है. उसके बाद दस्तावेज़ का सत्यापन होगा. कुल मिलाकर अगस्त, 2019 से पहले अंतिम रिज़ल्ट आने की संभावना नहीं है. इनकी ज्वाइनिंग कब होगी, यह तो रेलमंत्री ही जानें. बशर्ते, उन्हें यही पता हो कि अगली बार भी वही रेलमंत्री बनेंगे या नहीं.
आपको कई ऐसी वेबसाइट मिलेंगी जो आपको घर बैठे  एडवरटाइसमेंट पढने के पैसे देंगी, ये ऑनलाइन पैसा कमाने का सबसे आसान तरीका है। एडवरटाइसमेंट  इस समय दुनिया के सबसे बड़े व्यापारों में से एक है। ऐसी वेबसाइट का उद्देश्य अपने शब्दों को लोगों में पहुँचाना होता है। ऐसी कई वेबसाइट हैं जो आपको अपनी एड को पढने के लिए पैसा देने को तैयार हैं। ऐसी वेबसाइट में आप Sign Up करके उनकी एड्स (Advertisement) पढ़कर पैसा कम सकते हैं।बहुत सी साइट्स तो ऐसी हैं जो आपके मोबाइल पर SMS के जरिये AD भेजती हैं, और आपको आपके मोबाइल में AD पढने के पैसे भी देती हैं। इस जॉब को तो घर बैठे कोई भी महिला भी कर सकती है, रोजाना आप जितनी AD देखेंगे, उतना पैसा कम सकते हैं।  
डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

भारत दुनिया का अनोखा देश हैं, जहां रेलवे की ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए किसी को 26 घंटे की रेलयात्रा करनी पड़ती है. इस महीने 21, 22 और 23 जनवरी को सहायक लोको पायलट और टेक्नीशियन के 64,317 पदों के लिए दूसरे चरण की परीक्षा होनी है. 10 दिन पहले छात्रों के सेंटरों की लिस्ट जारी की गई है. छात्रों के सेंटर 1,500 से 2,000 किलोमीटर दूर दिए गए हैं. प्रधानमंत्री के ट्वीट को री-ट्वीट करने में व्यस्त रेलमंत्री को अपनी ही टाइमलाइन पर आ रहे ऐसे अनेक मैसेजों को नोट करना चाहिए और समाधान करना चाहिए. बहुत से साधारण और किसान परिवारों के छात्रों के सामने संकट आ गया है कि इम्तिहान देने के लिए वे 10,000-20,000 रुपये कहां से ख़र्च करें.


तीन साल पहले ग्रैजुएशन करने के दौरान पुणे में रहने वाले गौरव जाजू ने घर पर ही बच्चों को साइंस पढ़ाना शुरू किया ताकि कुछ पैसे कमाए जा सकें। इस एक्सपीरियंस से उन्हें मदद मिली। अब फार्मेसी में मास्टर डिग्री ले रहे जाजू खाली वक्त में स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन लेक्चर चलाते हैं। वह एक साइट पर रजिस्टर्ड हैं, जिसके जरिए उन्हें स्टूडेंट्स मिलते हैं और उनके पैरंट्स पढ़ाई के बारे में उनसे संपर्क कर सकते हैं। इससे न केवल उन्हें अहम टीचिंग एक्सपीरियंस मिल रहा है, बल्कि वह हर महीने 15,000 रुपये तक की कमाई भी कर लेते हैं।
अगस्त, 2018 में खुद रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ही ट्वीट किया था कि 74 फीसदी छात्र परीक्षा में शामिल हुए. यानी 47.56 लाख छात्रों में से 26 प्रतिशत परीक्षा देने से वंचित रह गए. इस तरह बिना इम्तिहान दिए ही 12 लाख से अधिक छात्र बाहर हो गए. जब पहले चरण की परीक्षा का रिज़ल्ट आया, तो 12 लाख छात्र ही दूसरे चरण के लिए चुने गए. अब जब संख्या छोटी हो गई, तो इनके सेंटर तो राज्य के भीतर दिए जा सकते थे. अगर नकल गिरोह से बचाने का तर्क है, तो यह बेतुका है, क्योंकि आजकल ऐसे गिरोह अखिल भारतीय स्तर पर चल रहे हैं, इसलिए सरकार को अपने सेंटर की निगरानी बेहतर करनी चाहिए, न कि छात्रों को 2,000 किलोमीटर दूर भेजकर परेशान करना चाहिए.
जब आपके पास एक वेबसाइट है जो विशेष वस्तुओं की समीक्षा करता है, तो आप उन चीज़ों पर पैसा बनाने के लिए क्लिकबैंक का लाभ ले सकते हैं जो आप करते हैं क्लिकबैंक का उपयोग करके उन वस्तुओं की समीक्षा देकर, जिन्हें आप क्लिकबैंक का उपयोग करना चाहते हैं, आप लोगों के लिए जगह बना रहे हैं ताकि वे यह जान सकें कि उनका पैसा कैसे खर्च किया जाना चाहिए। इस रणनीति में सफलता की कुंजी, वास्तविक समीक्षाएं तैयार कर रही है जो पाठकों के साथ विश्वास पैदा कर सकती है।
नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका सक्सेस इन हिंदी के मंच पर इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं कैसे आप इंटरनेट की दुनिया में पैसे कमा सकते हैं वो भी बिना किसी इन्वेस्टमेंट के, वैसे तो इंटरनेट की दुनिया से पैसे कमाने के तरीकों के बारे में बहुत सारे लोग पहले से ही जानते हैं किन्तु ऐसे अभी बहुत सारे लोग हैं जिन्हें इसके बारे में जानकारी नहीं है. यह पोस्ट हमने आज उन्हीं लोगों के लिए लिखी है जो इंटरनेट की दुनिया में पैसे कमाना चाहते हैं और अभी उनके पास जानकारी नहीं है की कैसे कमाए ऑनलाइन पैसा.
इस पद्धति से, आप सहबद्ध कमीशन कमा सकते हैं जो एक उद्यम के लिए आपकी प्रारंभिक पूंजी के रूप में उपयोग किया जा सकता है। इस तरह, आप एक ही समय में स्वयं की मदद करते हुए अन्य लोगों की मदद करते हैं। कोई भी तरीका नहीं है कि आप Clickbank के साथ ऑनलाइन पैसा बनाना चाहते हैं, प्रत्येक पद्धति निश्चित रूप से आपको दिमाग-उड़ाने वाले राजस्व को लाएगी। यह सिर्फ कुछ धैर्य, कड़ी मेहनत और रचनात्मकता लेता है
काम के लिए दूसरे पेशेवरों को जोड़ें: यदि आप किसी को जानते हैं जिनकी योग्यता, कौशल और नीति बेहतर हैं, उनके बारे में प्रत्याशित काम देने वाले को बताएँ। यदि उस व्यक्ति को काम के लिए चुन लिया जाता हैं, तो आपको भी उनके कार्य के दर्जे के अनुसार 3000 से कईं हजारो रूपये आपको मिल सकते है। ज्यादा जानकारी के लिए इन वेबसाइट को देखें जैसे ReferEarns या WhoDoYouKnowForDough इत्यादि।
×