आपके द्वारा ऑनलाइन व्यापार पर व्यतीत किये जा सकने वाले समय का मूल्यांकन करें। क्या आप घर में दो बच्चों और माँ के साथ रहते हैं और उनके स्कूल और घर-खर्च का व्यय भी आपको करना पड़ता हैं या आप अकेले ही रहते है? कितना समय आप आपके ऑनलाइन व्यवसाय को दे सकते हैं उसकी पहचान करें और उससे आपकी मासिक वांछित आमदनी से गणना करे। कुछ व्यवसाय विशेष में शुरुआती महीनों अतिरिक्त घण्टे कार्य करना पड़ सकता हैं, जैसे यदि आप ग्राहकों की सूची बना रहे हैं।
प्रतियोगिताओं में भाग लें: हालाँकि इसमें आपको जीते बिना पैसे नही मिलंगे। आपके कार्यक्षेत्र जैसे फोटोग्राफी, लोगो बनाना, बैकग्राउंड निर्माण में मौजूद "मुफ्त" प्रतिगिताओं की खोज करें और आपकी प्रतियों को ज्यादा से ज्यादा जगहों पर सबमिट करें। यह सब करने में एक पूरा दिन भी लग सकता हैं, लेकिन उनमें से कुछ सफल भी हो सकते है (या, शायद, बहुत सारे भी)। इससे मिलने वाला अनुभव आपको अन्य नए रचनात्मक रास्तो की खोज भी करा सकता है।
किसी भी ऑनलाइन कार्यक्रम में शामिल होने से पहले उसके बारे में आप अच्छी खोज कर लेवें। यदि कोई कंपनी कार्य शुरुआत से पहले संविदा अनुबन्ध के नाम पर पैसो की मांग करती हैं तो सचेत रहें और उस कंपनी के उपभोक्ता रिपोर्टों को भली भाँति जांच लें और कंपनी के बारे में लिखी गई ऑनलाइन टिप्पणियाँ देख लें। बहुत सी ऑनलाइन कंपनियाँ धोखाधड़ी करती हैं और बिना कोई कार्य प्रदान किये बिना आपके कुछ कीमत लेकर आपको जवाब देना बंद कर देती हैं।
कई पेशेवर ऑनलाइन लोग हैं जो अपनी छुट्टी छोड़ कर साझा कर सकते हैं पैसे ऑनलाइन बनाने के तरीके अन्य लोगों के लिए, विशेष रूप से आम जनता जो माताओं को जोड़ती है ऐसी कई महिलाएं हैं जो काम करने वाली माताओं बनना चाहती हैं क्योंकि वे यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि वे अपने बच्चों के लिए मुकाबला करने में सक्षम हैं। ऐसे कुछ विकल्प हैं जो उनके लिए उपलब्ध हैं, जैसे लेखन और उसी समय लेखों और ब्लॉग पोस्टों के संपादन में।
एलयू में इंजिनियरिंग फैकल्टी की शुरुआतलखनऊ विश्वविद्यालय (एलयू) ने छात्रों को विभागों के चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए यूनीक आईडी पोर्टल योजना की शुरुआत की। अब छात्रों को इस पोर्टल की सहायता से एक लॉग इन से सारी जानकारी मिलेगी। इसके अलावा शिकायत के लिए भी पोर्टल लॉन्च किया गया। एलयू में इंजिनियरिंग फैकल्टी की भी शुरुआत की गई, जिसकी पहली ही काउंसलिंग में सीटें भी फुल हो गईं। छात्रों को दीक्षांत में सिक्यॉरिटी फीचर वाली डिग्री और मार्कशीट दी गई। वहीं बीएलईडी का नया कोर्स भी सम्बद्ध कॉलेजों में शुरू किया गया।
पिछले साल रेलवे ने 64,317 पदों की वेकेंसी निकाली थी, जिसकी पहली परीक्षा अगस्त, 2018 में हुई. 31 मार्च तक फार्म भरे गए थे. 47 लाख से अधिक छात्रों ने फार्म भरे थे. इन सबका सेंटर अचानक 1,500-2,000 किलोमीटर दूर दे दिया गया. किसी को ट्रेन में रिज़र्वेशन नहीं मिला, तो किसी के पास टिकट के पैसे नहीं थे. किसी तरह इम्तिहान देने पहुंचे, तो रात प्लेटफार्म पर गुज़ारी. बहुत से छात्रों का इम्तिहान इसलिए छूट गया कि उनकी ट्रेन लेट हो गई. छात्र चिल्लाते रहे, रोते रहे, रेलमंत्री को ट्वीट करते रहे, मगर किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ा.
ईबुक बेचें: ईबुक सभी के लिए नहीं हैं, लेकिन कभी आपको अत्यावश्यक स्थिति के लिए अच्छा समाधान खोजने की कोशिश की हैं तो आपको दिमाग में जरूर आया होगा कि काश आप इस परेशानी का हल किसी को पैसे देकर जल्दी से प्राप्त कर पाते। इसी तरह ईबुक का व्यापार चलता हैं और उनकी अच्छी मांग भी हैं। ऑनलाइन खोज करे कि बाजार में क्या उपलब्ध हैं और लोग उनके बारे में फोरम में क्या शिकायते और सुझाव दे रहे हैं। उन विषयों पर ईबुक लिखने में अपना समय ख़राब ना करें जिनका जवाब वेब पर आसानी से मिल सकता हैं; अतः अच्छे विषय पर महत्वपूर्ण जानकारियों वाली ईबुक लिखें।
पिछले साल रेलवे ने 64,317 पदों की वेकेंसी निकाली थी, जिसकी पहली परीक्षा अगस्त, 2018 में हुई. 31 मार्च तक फार्म भरे गए थे. 47 लाख से अधिक छात्रों ने फार्म भरे थे. इन सबका सेंटर अचानक 1,500-2,000 किलोमीटर दूर दे दिया गया. किसी को ट्रेन में रिज़र्वेशन नहीं मिला, तो किसी के पास टिकट के पैसे नहीं थे. किसी तरह इम्तिहान देने पहुंचे, तो रात प्लेटफार्म पर गुज़ारी. बहुत से छात्रों का इम्तिहान इसलिए छूट गया कि उनकी ट्रेन लेट हो गई. छात्र चिल्लाते रहे, रोते रहे, रेलमंत्री को ट्वीट करते रहे, मगर किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ा.
इन साइटों का उपयोग लिंक को Short करने के लिए किया जाता है उसके बाद आप उस Short link या URL को जादा से जादा शेयर करना होता हैं आप इन्हें Social Sites (जैसे Facebook और Twitter)  या आप इसे अपनी खुद की ब्लॉग या साइट पर भी Use कर सकते हैं। जब भी कोई Visitor आपके short URL या link पर क्लिक करता है तो कुछ पैसे आपके URL शॉर्टनर Site के Account में add कर दियेे जाते है।
फ्रीलैंसिंग का मतलब  अपने क्लाइंट को सर्विस प्रोवाइड करना होता है। आप फ्रीलांसर बनकर दूसरों को सर्विस प्रोवाइड कर सकते हैं, जैसे आपके पास जो भी स्पेशल स्किल हो वेब डिजाइनिंग, विडियो मेकिंग आदि कुछ भी हो आप अपनी स्किल के जरिये दूसरों को दे सकते हैं और इस से आप काफी पैसा भी घर बैठे कमा सकते हैं। फ्रीलैंसिंग उन अच्छी ऑनलाइन जॉब्स में से एक है जिस पर आप अपनी शर्तों पर काम करके खूब पैसा कमा सकते हैं।
इंडिया में और पूरी दुनिया में बहुत सारी डाटा एंट्री जॉब्स मौजूद हैं। ऐसी सैंकड़ों कम्पनियां है जो वास्तविक नहीं है और लोगों को धोखा देती हैं, मार्किट में ऐसी कई फ्रॉड कम्पनियां है जिन्हें सिर्फ आपका रजिस्ट्रेशन अमाउंट चाहिए और अगर आप ऐसी किसी कंपनी का मेम्बर बन के उन्हें अपना रजिस्ट्रेशन अमाउंट दे देते हैं, तो इसके बाद ये कम्पनियां आपको कोई रेस्पोंड नहीं देंगी। ध्यान रखिये, किसी भी टाइपिंग जॉब या डाटा एंट्री जॉब के लिए कोई फीस मत दीजिये। गूगल की सहायता से कंपनी की रेप्युटेशन चेक करने के बाद ही कोई निर्णय लें।
एफिलिएट मार्केटर बनें: बिना किसी सामान को सहेजे किसी दूसरे के उत्पादों या सेवाओं का प्रचार कर पैसे कमाने का यह बहुत अच्छा तरीका हैं। एफिलिएट विज्ञापन सामान्यतः आपके वेबसाइट/ब्लॉग/पृष्ठ में लिंक द्वारा जुड़े रहते है (यह बहुत अच्छा तरीका है यदि आपके लेख मजबूत और सम्मोहक हैं, लेकिन यह ध्यान से किया जाना चाहिए ताकि विज्ञापन स्पैमी नहीं लगे, उत्पाद-प्लेसमेंट वीडियो (यह भी अच्छा तरीका हैं यदि आप मजाकिया या आपमें प्रदर्शन की प्रतिभा हैं), या बहुत कम बैनर विज्ञापन (कम प्रभावशील) क्योंकि ज्यादातर लोग इन्हें टाल देते हैं। यदि जरूरत है, तो आप बिना वेबसाइट के भी एफिलिएट मार्केटर बन सकते हैं (यू ट्यूब पर आपके एफिलिएट लिंक के साथ वीडियो पोस्ट करें)। कमीशन जंक्शन (Commission Junction) जैसी वेबसाइट पर आप संभावित उत्पाद और सेवाएँ देख सकते हैं।
×