इसलिए मेरा तर्क यह है कि रेलमंत्री प्रचार पर कम ध्यान दें और काम पर ज्यादा. रेल बोर्ड से पूछें कि गरीब और साधारण परिवार के छात्रों को 2,000 किलोमीटर भेजने का क्या तुक है. किस तरह से यह ऑनलाइन परीक्षा है, जिसके लिए किसी को 35 घंटे, तो किसी को 40 घंटे की यात्रा करनी पड़ रही है. बेपरवाही की भी हद होती है. अनगिनत महापुरुषों की जयंती और पुण्यतिथि पर ट्वीट करने वाले रेलमंत्री को इन छात्रों की समस्या पर ट्वीट करना चाहिए और समाधान निकालना चाहिए.

ऑडियो अनुवाद (transcribe audio)करें: वेबसाइट बेहतर हो रही हैं और सुनने में अक्षम के लिए ऑडियो की लिखी हुई प्रति उपलब्ध करवाते हैं, अनुवादकों के लिए नियमित रूप से काम आते रहते हैं। अनुवादन सामान्यतः आसान, तेज काम है और इसके लिए ज्यादा जिम्मेदारी भी नही रहती हैं, हालाँकि इसके लिए मिलने वाली रकम भी तुलनात्मक कम हैं। उपलब्ध अनुवादन कार्यो को देखने के लिए Odesk और eLance पर देखें।
×