आपको कई ऐसी वेबसाइट मिलेंगी जो आपको घर बैठे  एडवरटाइसमेंट पढने के पैसे देंगी, ये ऑनलाइन पैसा कमाने का सबसे आसान तरीका है। एडवरटाइसमेंट  इस समय दुनिया के सबसे बड़े व्यापारों में से एक है। ऐसी वेबसाइट का उद्देश्य अपने शब्दों को लोगों में पहुँचाना होता है। ऐसी कई वेबसाइट हैं जो आपको अपनी एड को पढने के लिए पैसा देने को तैयार हैं। ऐसी वेबसाइट में आप Sign Up करके उनकी एड्स (Advertisement) पढ़कर पैसा कम सकते हैं।बहुत सी साइट्स तो ऐसी हैं जो आपके मोबाइल पर SMS के जरिये AD भेजती हैं, और आपको आपके मोबाइल में AD पढने के पैसे भी देती हैं। इस जॉब को तो घर बैठे कोई भी महिला भी कर सकती है, रोजाना आप जितनी AD देखेंगे, उतना पैसा कम सकते हैं।  
ईबुक बेचें: ईबुक सभी के लिए नहीं हैं, लेकिन कभी आपको अत्यावश्यक स्थिति के लिए अच्छा समाधान खोजने की कोशिश की हैं तो आपको दिमाग में जरूर आया होगा कि काश आप इस परेशानी का हल किसी को पैसे देकर जल्दी से प्राप्त कर पाते। इसी तरह ईबुक का व्यापार चलता हैं और उनकी अच्छी मांग भी हैं। ऑनलाइन खोज करे कि बाजार में क्या उपलब्ध हैं और लोग उनके बारे में फोरम में क्या शिकायते और सुझाव दे रहे हैं। उन विषयों पर ईबुक लिखने में अपना समय ख़राब ना करें जिनका जवाब वेब पर आसानी से मिल सकता हैं; अतः अच्छे विषय पर महत्वपूर्ण जानकारियों वाली ईबुक लिखें।
इसलिए मेरा तर्क यह है कि रेलमंत्री प्रचार पर कम ध्यान दें और काम पर ज्यादा. रेल बोर्ड से पूछें कि गरीब और साधारण परिवार के छात्रों को 2,000 किलोमीटर भेजने का क्या तुक है. किस तरह से यह ऑनलाइन परीक्षा है, जिसके लिए किसी को 35 घंटे, तो किसी को 40 घंटे की यात्रा करनी पड़ रही है. बेपरवाही की भी हद होती है. अनगिनत महापुरुषों की जयंती और पुण्यतिथि पर ट्वीट करने वाले रेलमंत्री को इन छात्रों की समस्या पर ट्वीट करना चाहिए और समाधान निकालना चाहिए.
अगस्त, 2018 में खुद रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ही ट्वीट किया था कि 74 फीसदी छात्र परीक्षा में शामिल हुए. यानी 47.56 लाख छात्रों में से 26 प्रतिशत परीक्षा देने से वंचित रह गए. इस तरह बिना इम्तिहान दिए ही 12 लाख से अधिक छात्र बाहर हो गए. जब पहले चरण की परीक्षा का रिज़ल्ट आया, तो 12 लाख छात्र ही दूसरे चरण के लिए चुने गए. अब जब संख्या छोटी हो गई, तो इनके सेंटर तो राज्य के भीतर दिए जा सकते थे. अगर नकल गिरोह से बचाने का तर्क है, तो यह बेतुका है, क्योंकि आजकल ऐसे गिरोह अखिल भारतीय स्तर पर चल रहे हैं, इसलिए सरकार को अपने सेंटर की निगरानी बेहतर करनी चाहिए, न कि छात्रों को 2,000 किलोमीटर दूर भेजकर परेशान करना चाहिए.
एलयू में इंजिनियरिंग फैकल्टी की शुरुआतलखनऊ विश्वविद्यालय (एलयू) ने छात्रों को विभागों के चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए यूनीक आईडी पोर्टल योजना की शुरुआत की। अब छात्रों को इस पोर्टल की सहायता से एक लॉग इन से सारी जानकारी मिलेगी। इसके अलावा शिकायत के लिए भी पोर्टल लॉन्च किया गया। एलयू में इंजिनियरिंग फैकल्टी की भी शुरुआत की गई, जिसकी पहली ही काउंसलिंग में सीटें भी फुल हो गईं। छात्रों को दीक्षांत में सिक्यॉरिटी फीचर वाली डिग्री और मार्कशीट दी गई। वहीं बीएलईडी का नया कोर्स भी सम्बद्ध कॉलेजों में शुरू किया गया।
ईबुक बेचें: ईबुक सभी के लिए नहीं हैं, लेकिन कभी आपको अत्यावश्यक स्थिति के लिए अच्छा समाधान खोजने की कोशिश की हैं तो आपको दिमाग में जरूर आया होगा कि काश आप इस परेशानी का हल किसी को पैसे देकर जल्दी से प्राप्त कर पाते। इसी तरह ईबुक का व्यापार चलता हैं और उनकी अच्छी मांग भी हैं। ऑनलाइन खोज करे कि बाजार में क्या उपलब्ध हैं और लोग उनके बारे में फोरम में क्या शिकायते और सुझाव दे रहे हैं। उन विषयों पर ईबुक लिखने में अपना समय ख़राब ना करें जिनका जवाब वेब पर आसानी से मिल सकता हैं; अतः अच्छे विषय पर महत्वपूर्ण जानकारियों वाली ईबुक लिखें।

कमाई के मौकों में ब्लॉगिंग, ट्यूटरिंग, रिसर्च, सर्वे, डिजिटल मार्केटिंग, वेबसाइट डिवेलपमेंट, डिजाइनिंग, फोटो एडिटिंग ऐंड सेलिंग जैसी चीजें शामिल हैं। आउटसोर्सिंग और स्टाफिंग फर्म टीमलीज सर्विसेज की सीनियर वीपी (एचआर) नीति शर्मा के मुताबिक, 'आपको अपनी स्किल, नॉलेज और ऐप्टिट्यूड के मुताबिक सही नौकरी चुननी चाहिए। यह ध्यान रखें कि आप आज जो कर रहे हैं वह शिक्षा पूरी होने के बाद आपके करियर और जीवन को आकार देगा।'
अभी तक भले ही आप अपने आइडियाज को लांच करने में झिझक महसूस करते आये हों लेकिन अब आप जान चुके हैं कि ऑनलाइन बिज़नेस वो ऑप्शन है जिसमें आपको बहुत ज्यादा इन्वेस्ट करने की जरुरत नहीं है। थोड़ा पैसा और थोड़ा समय इन्वेस्ट करके भी आप इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं और अपने यूनिक आइडियाज और क्रिएटिव टैलेंट के दम पर आप इस बिजनेस को किस मुकाम पर ले जा सकते हैं, ये तो आपके अपने हाथ में है।
ईबुक बेचें: ईबुक सभी के लिए नहीं हैं, लेकिन कभी आपको अत्यावश्यक स्थिति के लिए अच्छा समाधान खोजने की कोशिश की हैं तो आपको दिमाग में जरूर आया होगा कि काश आप इस परेशानी का हल किसी को पैसे देकर जल्दी से प्राप्त कर पाते। इसी तरह ईबुक का व्यापार चलता हैं और उनकी अच्छी मांग भी हैं। ऑनलाइन खोज करे कि बाजार में क्या उपलब्ध हैं और लोग उनके बारे में फोरम में क्या शिकायते और सुझाव दे रहे हैं। उन विषयों पर ईबुक लिखने में अपना समय ख़राब ना करें जिनका जवाब वेब पर आसानी से मिल सकता हैं; अतः अच्छे विषय पर महत्वपूर्ण जानकारियों वाली ईबुक लिखें।

आज आसानी से पैसे कमाने का सबसे उत्तम तरीका है, अमेज़न पर उपलब्ध डील्स और उत्पादों की जानकारी दूसरों तक पहुँचाना। यहाँ हम आपको सिखाएंगे की कैसे आप अमेज़न एफिलिएट बनकर पैसा कमा सकते है। इसका फायदा ये है कि कोई भी पैसे कमा सकता है। चाहे आप छात्र हो जिसको पॉकेट मनी की जरूरत है, या गृहणी हो जिसको पैसे कमाने का ज़रिया चाहिए, अगर आप पैसा कमाना चाहते हैं, तो कमायेंगे।


तीन साल पहले ग्रैजुएशन करने के दौरान पुणे में रहने वाले गौरव जाजू ने घर पर ही बच्चों को साइंस पढ़ाना शुरू किया ताकि कुछ पैसे कमाए जा सकें। इस एक्सपीरियंस से उन्हें मदद मिली। अब फार्मेसी में मास्टर डिग्री ले रहे जाजू खाली वक्त में स्टूडेंट्स के लिए ऑनलाइन लेक्चर चलाते हैं। वह एक साइट पर रजिस्टर्ड हैं, जिसके जरिए उन्हें स्टूडेंट्स मिलते हैं और उनके पैरंट्स पढ़ाई के बारे में उनसे संपर्क कर सकते हैं। इससे न केवल उन्हें अहम टीचिंग एक्सपीरियंस मिल रहा है, बल्कि वह हर महीने 15,000 रुपये तक की कमाई भी कर लेते हैं।
ये चार पॉइंट्स आपके लिए बहुत आवश्यक हैं क्योंकि अगर आप इंटरनेट से पैसे कमाना चाहते हैं तो आपके पास एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन होना जरूरी है। उसके बाद आप जिस मशीन से काम करेंगे मतलब की आपके पास Smartphone या Computer (Laptop/Desktop) होना भी जरूरी है। इसके बाद आपके पास एक अच्छा धैर्य होना चाहिए। क्योंकि ऑनलाइन earning में आपको पहले दिन से earning के बारे में सोचना भी गुनाह है। इसके बाद सबसे महत्वपूर्ण बिंदु है कि आपके अंदर Real और Scam की समझ होना बहुत आवश्यक है। क्योंकि आप जिससे कमाई करने वाले हैं वो सच मे आपको पैसे देगा या फिर आप सिर्फ अपना समय ही बेकार कर रहें हैं। इसकी समझ आपको जरूर होनी चाहिए। आपको ज्यादा लालच में नही पड़ना है।
भारत दुनिया का अनोखा देश हैं, जहां रेलवे की ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए किसी को 26 घंटे की रेलयात्रा करनी पड़ती है. इस महीने 21, 22 और 23 जनवरी को सहायक लोको पायलट और टेक्नीशियन के 64,317 पदों के लिए दूसरे चरण की परीक्षा होनी है. 10 दिन पहले छात्रों के सेंटरों की लिस्ट जारी की गई है. छात्रों के सेंटर 1,500 से 2,000 किलोमीटर दूर दिए गए हैं. प्रधानमंत्री के ट्वीट को री-ट्वीट करने में व्यस्त रेलमंत्री को अपनी ही टाइमलाइन पर आ रहे ऐसे अनेक मैसेजों को नोट करना चाहिए और समाधान करना चाहिए. बहुत से साधारण और किसान परिवारों के छात्रों के सामने संकट आ गया है कि इम्तिहान देने के लिए वे 10,000-20,000 रुपये कहां से ख़र्च करें.
ग्वालियर के एक छात्र को असम के तेजपुर में सेंटर दिया गया है. बिहार के खगड़िया के छात्र को 1,700 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के राजामुंदरी में सेंटर दिया गया है. खगड़िया से एक भी ट्रेन वहां नहीं जाती है. जोधपुर के छात्र को 2,000 किलोमीटर दूर ओडिशा के राउरकेला भेजा गया है. 35 घंटे की यात्रा है और दूरी 2,000 किलोमीटर की. इस छात्र ने रेलमंत्री को ट्वीट किया है कि किसी ट्रेन में टिकट भी नहीं है. बंगाल के छात्र को तमिलनाडु के तिरुनेल्वेली सेंटर दिया गया है. ट्रेन में टिकट नहीं है. पश्चिम बंगाल के छात्र का सेंटर मुंबई दिया गया है. झांसी का छात्र हैदराबाद जाए और पश्चिम बंगाल का पुणे. पटना के मनीष को केरल के एरनाकुलम जाना होगा. जयपुर के छात्र को कोलकाता जाना होगा. गंगासागर के मेले के कारण कोलकाता जाने वाली ट्रेन में टिकट नहीं है. बंगाल के मुर्शिदाबाद का छात्र बेंगलुरू कैसे जाएगा. रेलमंत्री खुद अपनी टाइमलाइन पर यह सब देख सकते हैं.
आज की इस ऑनलाइन लाइफस्टाइल में इंटरनेट यूजर्स की संख्या बहुत ही तेज़ी से बढ़ी है और ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर ऑनलाइन बिजनेस करने तक के ढेरों विकल्प अब हमारे सामने आ गये हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा ये है कि अगर आपके पास एक यूनिक आईडिया है तो आप अपना ऑनलाइन बिजनेस बड़ी आसानी से शुरू कर सकते हैं और इस ऑनलाइन बिजनेस में कम इन्वेस्टमेंट के बावजूद भी आप कुछ ही समय में एक अच्छा अमाउंट कमा सकते हैं। ऐसे में आज बात करते हैं ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं और इसके लिए कौनसे विकल्प मौजूद हैं।
ईबुक बेचें: ईबुक सभी के लिए नहीं हैं, लेकिन कभी आपको अत्यावश्यक स्थिति के लिए अच्छा समाधान खोजने की कोशिश की हैं तो आपको दिमाग में जरूर आया होगा कि काश आप इस परेशानी का हल किसी को पैसे देकर जल्दी से प्राप्त कर पाते। इसी तरह ईबुक का व्यापार चलता हैं और उनकी अच्छी मांग भी हैं। ऑनलाइन खोज करे कि बाजार में क्या उपलब्ध हैं और लोग उनके बारे में फोरम में क्या शिकायते और सुझाव दे रहे हैं। उन विषयों पर ईबुक लिखने में अपना समय ख़राब ना करें जिनका जवाब वेब पर आसानी से मिल सकता हैं; अतः अच्छे विषय पर महत्वपूर्ण जानकारियों वाली ईबुक लिखें।
×